Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

राज्‍य में स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं, सीएम त्रिवेंद्र रावत दिल्ली एम्स में करा रहे इलाज: प्रदीप टम्टा

 

बागेश्वर: राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि प्रदेश में कोरोना काल में स्वास्थ्य सुविधाएं पूरी तरह चरमरा गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को देख लीजिए। उन्‍हें खुद को जब कोरोना हुआ तो इलाज कराने दिल्ली के एम्स पहुँच गए। राज्‍य में बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य सुविधा होती तो उन्‍हें दिल्‍ली न जाना पड़ता। कहा कि राज्य सरकार प्रवासियों को दिए गए रोजगार पर श्वेतपत्र जारी करे।

बुधवार को पत्रकार वार्ता में राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि कोविड-19 का खतरा बढ़ते जा रहा है। स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में लोग दम तोड़ रहे है। हाल आप देख ही रहे हैं। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाएं होती तो मुख्यमंत्री को दिल्ली इलाज को नहीं जाना पड़ता। महामारी के एक साल बाद भी व्यवस्थाएं दुरुस्त करने में सरकार नाकाम साबित हुई है। सांसद टम्टा ने कहा कि कोरोना काल मे सरकार के आंकड़ों के अनुसार 6 लाख प्रवासी घर वापस आए। बीजेपी सरकार दावों के अनुरुप उनको रोजगार देने में असफल रही। आज हालात गांव में जाकर देख लीजिए। लोन की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि उन्हें बैंकों से पैसा नहीं मिल पा रहा है। जिनको बाहरी राज्‍यों से बुलावा आया वह अपने काम पर वापस चले गए। पर राज्‍य सरकार उन्‍हें रोक न सकी। बस पलायन पर बात करती रही। सरकार ने अगर प्रवासियों के लिए कुछ किया है तो वह श्वेतपत्र जारी करे। राज्यसभा सांसद ने कहा कि देश में चल रहे किसान आंदोलन को उत्तराखंड के किसानों ने भी अपना समर्थन दिया है। पूरे देश के किसान दिल्ली के बॉर्डर पर आंदोलनरत है। सरकार तानाशाही रवैया अपना रही है। केंद्र सरकार को जल्द किसानों की मांग माननी चाहिए, जो बिल जल्दबाजी में लगाए गए हैं, उनको रद करना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.