Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

ट्रंप का एक ट्वीट, जिससे महाभियोग की सुनवाई में मचा हड़कंप

अमरीका के राष्ट्रपति सुनवाई के दौरान कक्ष में मौजूद नहीं थे, इसके बावजूद वहां उनकी मौजूदगी महसूस की गई. ये सुनवाई टीवी पर लाइव चल रही थी. यूक्रेन के लिए अमरीका की पूर्व राजदूत मैरी योवानोविच जब सुनवाई के दौरान अपना बयान दे रही थीं, उसी वक्त राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्विटर के ज़रिए उनपर हमला बोला.

ट्वीट में उन्होंने मैरी योवानोविच पर सोमालिया में उथल-पुथल मचाने का आरोप लगाया. उन्होंने लिखा, “हर जगह मैरी योवानोविच द्वेषपूर्ण होती है. सोमालिया में भी उन्होंने यही किया था. वहां क्या हुआ?”

उनके इस ट्वीट की जानकारी सभा में भी पहुंची. महाभियोग की जांच देख रही इंटेलिजेंस कमिटी के चेयरमैन एडम शिफ ने योवानोविच को इसकी जानकारी दी.

इसपर योवानोविच ने कहा कि ये धमकी देने जैसा है. सोमालिया वाले आरोप पर उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगता मेरे पास इतनी ताक़त है. ना मोगादिशु में, ना सोमालिया में और नहीं कहीं और.”

उनका ये जवाब भी टीवी पर लाइव प्रसारित किया गया. चेयरमैन एडम शिफ ने भी कहा कि ट्रंप के ट्वीट को चश्मदीदों को डराने-धमकाने का तरीका कहा जा सकता है. हालांकि ट्रंप ने कहा कि उनके ट्वीट किसी को धमकाने के लिए नहीं थे. ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि उन्होंने महाभियोग से जुड़ी सुनवाई देखी और “ये अपमानजनक है”.

रिपब्लिकन सांसदों ने भी धमकाने के दावों को खारिज किया. सांसद जिम जॉर्डन ने कहा, “चश्मदीद अपना बयान दे रही थी. अगर शिफ उन्हें ट्वीट पढ़कर नहीं बताते तो उन्हें इसके बारे में पता ही नहीं चलता.”

Leave A Reply

Your email address will not be published.