Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

अपने शायरी से लोगों को बहुत हंसाते थे अकबर इलाहाबादी

अकबर इलाहाबादी का पूरा नाम सैयद अकबर हुसैन था। उनका जन्म इलाहाबाद के पास बारा नाम के जगह 16 नंवबर 1846 में एक सम्मानजनक परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम सैयद तफ्फज़ुल हुसैन था। उनकी शुरूआती शिक्षक घर पर ही हुई थी। उसके बाद 15 साल की उम्र में उनकी शादी हो गयी।

लाखों लोगों की पसंद अकबर इलाहाबादी मुख्य रूप से हास्य और व्यंग के शायर माने जाते हैं। लेकिन अपनी शायरी से लोगों को गुदगुदी कर लोगों को हंसाने वाले अकबर एक तर्कशील इंसान भी थे। आज उस मशहूर शायर का जन्म दिन है तो आइए हम उनकी जिंदगी के कुछ पहलुओं से रूबरू कराते हैं।

अकबर इलाहाबादी मशहूर शायर होने के साथ एक मिलनसार और शानदार इंसान थे। उनकी हास्य कविताएं ही उनकी पहचान थी। रचना की कोई भी विधा चाहे वह गजल, नजम, रुबाई या क़ित हो सभी का अंदाज निराला था। शायर होने के साथ ही अकबर इलाहाबादी एक समाज सुधारक भी थे। जीवन के विविध पहलूओं पर व्यग्यं करना उनकी कविताओं की विशेषता थी। ‘अकबर’ इलाहाबादी हास्य और व्यंग के कवि माने जाने जाते हैं। लेकिन हास्य-व्यंग के अलावा ‘अकबर’ की पूरी शायरी में एक गहरा सामाजिक और सांस्कृतिक उद्देश्य भी रखती है। अकबर ने हास्य और व्यंग्य को अपनी अभिव्यक्ति का जरिया बनाया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.