Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

बदरीनाथ धाम, निजमूला घाटी, व कई और ऐतिहासिक स्थलों की सफ़ेद चाँदोरं से ढकी तस्वीरें

उत्तराखंड के चमोली जिले में दो दिन से हो रही बारिश और बर्फबारी बुधवार को दोपहर बाद थम गई। धूप निकलने से लोगों को कड़ाके की ठंड से राहत मिली। बदरीनाथ धाम में करीब ढाई फीट और हेमकुंड साहिब में लगभग साढ़े तीन फीट तक बर्फ जम गई है, जबकि फूलों की घाटी, घांघरिया, रुद्रनाथ, लाल माटी, माणा और नीती क्षेत्रों में चारों ओर बर्फ जमी हुई है।

जिले के निजमूला घाटी के पाणा, ईराणी, झींझी गांव और घाट विकास खंड के कनोल, भेंटी बुग्याल और सुतोल गांव में बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। आम रास्तों में बर्फ बिछ जाने से ग्रामीणों के सम्मुख आवाजाही का संकट खड़ा हो गया है।

वहीं, बर्फबारी से जोशीमठ-औली और चमोली-गोपेश्वर-ऊखीमठ मोटर मार्ग पर वाहनों की आवाजाही में दिक्कतें आ रही हैं। वाहन बर्फ में फिसल रहे हैं। बारिश और बर्फबारी से जिले में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। नगर क्षेत्रों में नगर पालिका और नगर पंचायतों की ओर से अलाव की व्यवस्था की गई है।

बारिश और बर्फबारी गेहूं, सरसों और सेब की फसल के लिए संजीवनी का काम करेगी। काश्तकारों का कहना है कि बर्फबारी व बारशि के कारण जमीन में नमी आ गई है। इससे जहां सेब की फसल की पैदावार अच्छी होगी, वहीं, निचले क्षेत्रों में  गेहूं व सरसों की फसल अच्छी होगी। गेहूं को पीला रतुआ रोग भी प्रभावित नहीं कर पाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.