Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

बंशीधर भगत बने उत्तराखंड भाजपा के नए अध्यक्ष, जानिए उनका राजनीतिक सफर

सियासी संतुलन में प्रत्येक खांचे पर फिट बैठे 69 वर्षीय पूर्व मंत्री और कालाढूंगी से विधायक बंशीधर भगत को उत्तराखंड भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष चुन लिया गया। पार्टी के दिग्गज नेताओं की मौजूदगी में केंद्रीय पर्यवेक्षक और केंद्रीय संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने उनके सर्वसम्मति से निर्वाचन का ऐलान किया।

उत्तर प्रदेश और फिर उत्तराखंड में छठवीं बार के विधायक भगत प्रदेश भाजपा के आठवें अध्यक्ष हैं। सियासत के साथ ही सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय बंशीधर भगत रामलीला मंचन में भी खासी रुचि रखते हैं और हर वर्ष रामलीला में राजा दशरथ के पात्र की भूमिका निभाते हैं। प्रदेश अध्यक्ष के अलावा भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के लिए विधायक हरबंस कपूर और ऋतु खंडूड़ी, पार्टी नेता बिंदेश गुप्ता, मदन सिंह मेहरा, राजपाल भी निर्वाचित घोषित किए गए।

प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष के चुनाव को लेकर पिछले कई दिनों से चल रही कवायद गुरुवार को अध्यक्ष पद पर बंशीधर भगत के नाम का ऐलान होने के साथ ही खत्म हो गई। पार्टी के आधा दर्जन से ज्यादा नेता अध्यक्ष पद की दौड़ में थे।  जातीय व क्षेत्रीय संतुलन समेत सभी समीकरणों के पैमानों पर भगत अन्य सभी दावेदारों पर भारी पड़े। ऐसे में पार्टी नेतृत्व को उनके नाम पर सर्वानुमति बनाने में कोई दिक्कत भी नहीं हुई।

यही वजह रही कि गुरुवार को पार्टी के प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए सिर्फ बंशीधर भगत ने ही नामांकन दाखिल किया। उन्होंने प्रदेश चुनाव अधिकारी बलवंत सिंह भौंर्याल को दो सेट में नामांकन प्रस्तुत किया। इसमें राज्य की पांचों लोकसभा सीटों के हिसाब से दो-दो कार्यकर्ता प्रस्तावक बने। जांच में नामांकन पत्र सही पाए गए।

इसके बाद केंद्रीय पर्यवेक्षक अर्जुनराम मेघवाल की मौजूदगी में प्रांतीय कार्यालय के सभागार में हुई बैठक में भगत के नाम पर चर्चा की गई। इसके बाद मेघवाल ने भगत के प्रदेश अध्यक्ष पद पर सर्वसम्मति से निर्वाचन की घोषणा की। इस मौके पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष और सांसद अजय भट्ट, सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, प्रदेश महामंत्री संगठन अजय कुमार, प्रदेश चुनाव अधिकारी बलवंत सिंह भौंर्याल आदि मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.