Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

कोरोना गाइड लाइन को भूले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष भगत!

हल्द्वानी। कोरोना के इस मुश्किल दौर में हल्द्वानी के गौलापार में बने ब्लाइंड स्कूल के बच्चों ने मिसाल पेश की है। बच्चों ने अपनी पॉकेट मनी से 11 हजार रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए दिए हैं। ताकि सरकार कोरोना पीड़ित मरीजों की मदद कर सके। खास बात ये थी कि बच्चों ने ये रुपया अपने हाथों से उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को दिया। भगत ने भी दिव्यांग बच्चों के साहस की दिल खोलकर तारीफ की। और इसे अनमोल मदद करार दिया।  लेकिन भगत इस दौरान कोरोना गाइड लाइन को भूल गए। और बिना मास्क के ही बच्चों के बीच मौजूद दिखे।

नैब में बच्चों की सेहत से खिलवाड़! 

8 अप्रैल को नैब के बच्चों ने 11 हजार का चैक बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को सौंपा। लेकिन इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष भगत कोरोना गाइड लाइन से बेखबर दिखे। भगत ने तो खुद मास्क नहीं पहन रखा था। साथ ही 11 हजार का चैक देने वाले साहसिक बच्चों को भी नैब मैनेजमेंट ने कोई मास्क नहीं पहना रखा था। यही नहीं बच्चों की मदद कर रही महिला भी मास्क के बिना ही वहां मौजूद थी। हैरानी की बात ये कि सोशल डिस्टेंसिग का मजाक उड़ाते हुए भगत से चिपक कर खड़े वहां मौजूद नैनीताल के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, नैब संचालक श्याम धनिक, बीजेपी के पूर्व जिला महामंत्री चंदन बिष्ट ने दिखाने के लिए मास्क गले में लटका रखे थे। लेकिन उनका मुंह और नाक इससे ढके नहीं थे। वीडियो में दिख रहा है कि पीछे बेंच पर बैठे बाकी बच्चों को भी मास्क नहीं पहनाया गया है। और न ही कोई सोशल डिस्टेंसिंग मैंनेट की गई है। जो नैब के बच्चों की जिंदगी से बड़ा खिलवाड़ है। साफ है बीजेपी नेताओं और नैब मैनेजमेंट को  या तो केंद्र की  सरकार की कोरोना हेल्थ गाइड लाइन की जानकारी नहीं है या वो इसका मखौल उड़ा रहे हैं।

(उत्तराखंड के हल्द्वानी से पवन कुंवर की रिपोर्ट)

Leave A Reply

Your email address will not be published.