Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

पौष्टिक व संतुलित आहार बचाएगा डिप्रेशन से

कुलदीप तोमर

खानपान का हमारे स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ता है। खानपान पोष्टिक और संतुलित रहे इसके लिए डाइट में विटामिन्स और मिनिरल्स भरपूर मात्रा में होने चाहिए। यदि विटामिन्स और मिनिरल्स में कमी रहती है तो यह शरीर में कई प्रकार की समस्या पैदा कर सकते हैं। डिप्रेशन से बचाव के लिए व डिप्रेशन से ग्रस्त होने के दौरान कैसी हो आपकी डाइट, बता रही है डाइटिशियन नीलम सिंह-

डिप्रेशन से निपटने के लिए अच्छी डाइट है कारगर

डिप्रेशन से बचने के लिए पोषक तत्वों युक्त संतुलित खाना खाएं। संतुलित भोजन से तात्पर्य है कि ऐसा भोजन जिसमें वह सभी तत्व मौजूद हो जिनकी जरूरत हमारे शरीर को होती है। अब सभी तत्वों वाला भोजन एक साथ भी नही लिया जा सकता, इसके लिए जरूरी है प्लान्ड डाइट। जैसे-एक दिन में अलग-अलग चीजों को भोजन में शामिल करना। डिप्रेशन से उबरने के लिए अपनी डाइट में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और मिनिरल्स भरपूर लेँ। यह सब आपको अनाज, हरी सब्जियां जैसे बीन्स, पालक, मटर आदि, मिल्क प्रोडक्ट्स, ओट्स और मौसमी फलों से मिलेगा। खाने में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन-सी देने वाले चीजों को शामिल करें जैसे ब्रोकली, सीताफल, अखरोट, किशमिश, शकरकंद, जामुन, ब्लूबेरी, संतरा आदि। तनाव को बढ़ाने वाले हार्मोन्स एडरिनालिन, कॉरटिसोल आदि को कम करने के लिए ओमेगा थ्री फैटी एसिड को खाने में शामिल करें। ओमेगा थ्री फैटी एसिड मछली, वालनट्स, फ्लैक्ससीड्स (अलसी के बीज), कनोला, सोयाबीन, नट्स आदि से ले सकते हैं।

मैग्नीशियम डिप्रेशन से लडने में करता है मदद

मैग्नीशियम तनाव को दूर रखने में महत्ती भूमिका निभाता है। खाने में नियमित रूप से मैग्नीशियम को शामिल करने से डिप्रेशन से राहत मिल सकती है। मैग्नीशियम पालक में भरपूर मात्रा में मिलता है। इसके अलावा बादाम में भी मैग्नीशियम काफी मात्रा में मिलता है। 100 ग्राम बादाम में 238 ग्राम मैग्नीशियम होता है।

  1. इन बातों का भी रखें ख्याल
  2. पानी खूब पीएं।
  3. मसालेदार खाने और जंकफूड से परहेज करें।
  4. नारियल पानी का सेवन काफी लाभदायक माना जाता है।
  5. बदरंग खाने के बजाए रंगीन खाने को ज्यादा तरजीह दें। जैसे गाजर, टमाटर, गोभी, आदि सब्जियां।
  6. दिनभर में 3-5 टाइम थोड़ा-थोड़ा खाना खाएं।

 

ना हो डिप्रेशन, इन चीजों का करें सेवन

 

  • -पालक को खाने में शामिल करें। पालक में आयरन व मैग्नीशियम होता है जोकि पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और दिमाग को शांत रखने में मददगार साबित होता है।
  • -एक कटोरी अंकुरित अनाज का सेवन करेँ। इसमें आप सोयाबीन, चने भी शामिल कर सकते हैं। ब्रेकफास्ट में अंकुरित अनाज लेने से इम्यून सिस्टम को स्ट्रोंग होगा ही साथ ही मूड स्विंग्स की परेशानी से भी बचेंगे।
  • -नारियल का नियमित सेवन करें। इसमें नारियल खा भी सकते है और उसके पानी का सेवन भी कर सकते हैं। नारियल में मौजूद इलेक्ट्रोलाइट्स डिप्रेशन में काफी मददगार माने जाते हैं।
  • -प्रतिदिन नियमित रूप से टमाटर का सेवन करें। टमाटर में लाइकोपीन नामक एंटीऑक्सिडेंट मिलता है जोकि मूड को फ्रेश बनाने और तनाव को दूर करने में लाभदायक होता है।
  • -ग्रीन टी को भी नियमित अपनी डाइट में शामिल करें। ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट के साथ साथ एमिनो एसिड भी होता है। ग्रीन टी कॉरटिसोल हार्मोन को नियंत्रित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

(डाइटिशियन नीलम सिंह से बातचीत पर आधारित)

Leave A Reply

Your email address will not be published.