Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

गाजियबाद में दर्दनाक हादसा, 17 लोगों की मौत

दिल्ली  की सीमा से लगे हुए  गाजियाबाद जिले में बड़ा हादसा हो गया। मुरादनगर के श्मशान घाट परिसर में गैलरी की छत गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। कई लोगों के और दबे होने की संभावना है, जबकि 20 से ज्यादा लोगों को मलबे से निकालकर विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

जानकारी के अनुसार, गाजियाबाद के मुरादनगर स्थित श्मशान घाट में पिलरों पर लिंटर पड़ा था। बारिश में लिंटर अचानक गिर गया। जिसके नीचे 40 से ज्यादा लोग दब गए। दर्दनाक हादसे में 17 लोगों की मौत की हो गई है।

35 लोगों को रेस्क्यू कर निकाला गया-आईजी

श्मशान घाट में हुआ हादसे का एक चरण का रेस्क्यू पूरा हो चुका है। आईजी मेरठ प्रवीण कुमार के अनुसार मलबे में दबे में कुल 35 लोगों को रेस्क्यू कर निकला गया है। कमिश्नर अनीता सी मेश्राम व आइजी ने 17 लोगों के मरने की पुष्टि की। उनके मुताबिक मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है। एनडीआरएफ, डॉग स्क्वायड टीम एक बार फिर मलबे में दबे लोगों के अवशेष तलाशने में जुटी हुई है।

भ्रष्टाचार बना हादसे की वजह

बताते चलें कि श्मशान घाट में क्षतिग्रस्त लिंटर का निर्माण पिछले अक्तूबर में ही पूरा हुआ था। प्रशासन मामले की जांच में जुट गया है। मौके पर जमा भीड़ भ्रष्टाचार का आरोप लगा कर जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार करने की मांग कर रही है।

आपको बता दें कि हादसे का शिकार हुए सभी लोग मुरादनगर के डिफेंस कॉलोनी निवासी फल विक्रेता जयराम (उम्र करीब-65) की अंत्येष्टि में आए थे। ये सभी लोग अंत्येष्टि के बाद गेट से सटी गैलरी में मौन धारण करने के लिए जमा हुए थे तभी ये हादसा हो गया।

बताया जा रहा है कि ढाई माह पहले गैलरी का निर्माण कराया गया था। आरोप है कि सरिया को छोड़ निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया। गैलरी ढहते ही निर्माण सामग्री चूरे में तब्दील हो गई।

सीएम योगी ने किया मुआवजे का ऐलान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादनगर की घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।मुख्यमंत्री ने हादसे में मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मण्डलायुक्त मेरठ एवं एडीजी मेरठ जोन को घटना के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश भी दिए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.