Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

NRC पर हो रहे हिंसक प्रदर्शन के बाद गृहमंत्री कर सकते है कुछ बदलाव

नागरिकता संशोधन विधेयक पर सियासी बवाल हो रहा है साथ ही इसको लेकर पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों में हिंसक विरोध भी हो रहा है। इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पहली बार इसमें कुछ बदलाव के संकेत दिए हैं।

नागरिकता संशोधन कानून पर पूर्वोत्तर में जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शन काफी तेज होता जा रहा है। अमित शाह ने कांग्रेस पर नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप लगाया है। वहीं झारखंड के गिरिडीह में चुनावी रैली के दौरान अमित शाह ने कहा कि मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने मुझसे (कानून में) कुछ बदलाव करने को कहा है। मैंने उन्हें (संगमा) क्रिसमस के बाद मिलने के लिए कहा है। हम मेघालय के वास्ते रचनात्मक तरीके से समाधान ढूंढने के लिए सोच सकते हैं। शाह ने पूर्वोत्तर के लोगों को आश्वासन दिया कि इस अधिनियम से उनकी संस्कृति, भाषा, सामाजिक पहचान और राजनीतिक अधिकार प्रभावित नहीं होंगे।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून पर पूर्वोत्तर में जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शन काफी तेज होता जा रहा है। जो अब पश्चिम बंगाल सहित कई अन्य राज्यों में भी फैसला शुरू हो गया है।

शाह ने पूर्वोत्तर के लोगों को आश्वासन दिया कि इस अधिनियम से उनकी संस्कृति, भाषा, सामाजिक पहचान और राजनीतिक अधिकार प्रभावित नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि मैं असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि उनकी संस्कृति, सामाजिक पहचान, भाषा, राजनीतिक अधिकारों को नहीं छुआ जाएगा।

झारखंड में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस कानून को लेकर नॉर्थ ईस्ट के लोगों में कुछ संदेह है और इसको लेकर मेघालय के मुख्यमंत्री ने मुझसे मुलाकात की।

Leave A Reply

Your email address will not be published.