Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

भारत को आत्मनिर्भर बनाने में किसानों की अहम भूमिका : सुबोध उनियाल

हल्द्वानी: देश के विकास एवं खाद्यान के क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में किसानों की अहम भूमिका है। लिहाजा किसानों के हितों के लिए जो कल्याणकारी योजनायें केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित की जा रही हैं उनका लाभ किसानो तक पहुचाने के लिए कृषि,उद्यान,डेरी, सहकारिता विभागों द्वारा नई ऊर्जा एवं कार्य संस्कृति से कार्य करना होगा। यह बात प्रदेश के कृषि एवं उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल ने शुक्रवार को सर्किट हाउस में विभागीय समीक्षा के दौरान अधिकारियों से कही। विभागीय कार्यक्रमों की समीक्षा के साथ ही उनियाल ने जनपद में मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं की विस्तार से समीक्षा की और कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा जनपद के विकास के लिए जनआवश्यकताओं के अनुसार जो घोषणायें की है। उनको धरातल पर उतारने के लिए सार्थक पहल होनी चाहिए। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणाओ को मूर्तरूप देने से विकास के नये आयाम खुलेंगे तथा जनआवश्यकताओ की भी पूर्ति होगी।

उनियाल ने अधिकारियो से कहा कि वह दूरगामी पर्वतीय क्षेत्रों में किसानोें के बीच चैपाल लगाकर उनकी समस्याये सुने तथा उनका मौके पर निराकरण करें उन्होने कि विभाग एवं काश्तकार के बीच किसी भी प्रकार की संवादहीनता नही होनी चाहिए। उन्होने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक किसानो की आय दोगुनी हो, इसको ध्यान मे रखते हुये सभी विभाग कार्य करें। खेती के साथ ही ऐसे सहव्यवसायों यथा दुग्ध उत्पादन, मुर्गीपालन, मत्स्य पालन, मशरूम उत्पादन, मसालो की खेती को अपनाने के लिए किसानोें को प्रोत्साहित किया जाए। उन्होने कहा कि किसानो द्वारा उत्पादित फल सब्जी तथा अनाज के बिक्री की व्यापक व्यवस्था भी की जाए। श्री उनियाल ने सेब के घटते उत्पादन पर चिन्ता व्यक्त करते हुये कहा कि उद्यान विभाग को सेब की खेती को बढावा देने के लिए काश्तकारो ंके बीच जाना होगा तथा सेब की नई प्रजातियों से अवगत कराते हुये उन्हे सेब की खेती के लिए प्रेरित करना होगा ताकि उनका आर्थिक विकास हो तथा उनकी आय मे वृद्वि हो। उन्होने कहा कि पर्वतीय क्षेत्र के किसानो के समूूह बनाकर उन्हे कृषि के साथ ही बागवानी तथा दुग्ध उत्पादन कार्य से जोडा जाए ताकि वह खेती के साथ अन्य माध्यमों से अपनी आय बढा सकें।

मंत्री उनियाल ने कहा कि जिला योजना की धनराशि का 40 प्रतिशत कृषि, उद्यान तथा पर्यटन पर व्यय किया जाए। उन्होने कहा कि यह वह सेक्टर है जिससे छोटी जोत के काश्तकारो का विकास होगा वही पर्यटन के माध्यम से स्थानीय लोगों को स्वरोजगार भी मिलेगा। इस सम्बन्ध मे शासनादेश भी जारी है। उन्होने मुख्य कृषि अधिकारी धनपत कुमार तथा संयुक्त निदेशक कृषि पीके सिह को निर्देश दिये कि बेहतर काम करने वाले तथा शासकीय योजनाओं के माध्यम से उन्नति करने वाले किसानों की सक्सेस स्टोरी गांव मे चैपाल लगाकर किसानो को बताई जांए ताकि किसानो ंके बीच प्रतिस्पर्धा हो सके और अधिक से अधिक किसान सरकारी योजनाओ का लाभ स्वप्रेरित होकर उठा सके।

जानकारी देते हुये मुख्य कृषि अधिकारी डाॅ. धनपत कुमार ने बताया कि जनपद मे प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत 56269 किसानो का पंजीकरण किया गया है। इस योजना का लाभ जिले के 55405 किसानो को दिया जा रहा है। उन्होने बताया राष्टीय कृषि विकास योजना पर्वतीय बीज उत्पादन कार्यक्रम में गेहू बीज उत्पादन के लिए 80 हेक्टेयर क्षेत्रफल आच्छादित है जबकि जैविक कृषि कार्यक्रम के तहत वर्मी एवं नाडेप के 310 कम्पोस्ट पिट तैयार किये गये है। जनपद में जंगली पशुओं से फसल सुरक्षा हेतु 107 लाख की धनराशि वर्तमान वित्तीय वर्ष मे उपलब्ध है जिससे 11 योजनाओं पर पर्वतीय क्षेत्रोें मे कार्य किया जा रहा है। उन्होने बताया कि प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना मे अब तक जनपद मे 286 जलसंभरणध्संरक्षण संरचनाओ का निर्माण कराया जा चुका है जिससे लगभग 1715 हैक्टेयर वर्षा आधारित क्षेत्र मे सिंिचंत क्षमता का विकास हुआ है।

जानकारी देते हुये जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी ने बताया कि मा. मुख्यमंत्री द्वारा जनपद में 160 घोषणाये की गई थी। जिसमे से 106 घोषणायें निस्तारित की जा चुकी है शेष मे कार्यवाही गतिमान है। बैठक में प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी एवं परियोजना निदेशक अजय सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त राजस्व एसएस जंगपांगी, सचिव जिला विकास प्राधिकरण पंकज उपाध्याय, सामान्य प्रबन्धक कुमाऊ मण्डल विकास निगम अशोक जोशी, मुख्य अभियन्ता सिचाई संजय शुक्ला, अघीक्षण अभियन्ता नलकूप संजय कुशवाहा, मुख्य शिक्षा अधिकारी केके गुप्ता, मुख्य उद्यान अधिकारी भावना जोशी, जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरूद्व, सिचाई हरीश चन्द्र सिह भारती, जलसंस्थान विशाल सक्सेना, जिला युवा कल्याण अधिकारी दीप्ति जोशी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ. पीएस भण्डारी के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे।

——————————————————————————————————————–

कल गर्जिया गेट का लोकार्पण करेंगे वन मंत्री हरक

हल्द्वानी: प्रदेश के वन एवं वन्यजीव, पर्यावरण एवं सेवायोजन मंत्री डाॅ. हरक सिह रावत निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जनपद भ्रमण पर पहुच रहे है। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मंत्री डाॅ. हरक सिह रावत 26 दिसम्बर को प्रातः 11 बजे पर्यटकों हेतु रामनगर में गर्जिया गेट का लोकापर्ण करेंगे। रावत दोहपर 2 बजे रामनगर से कार द्वारा कालागढ-पाखरो कोटद्वारा कि लिए प्रस्थान करेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.