Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

कश्मीर का ये प्राचीन शिव मंदिर जिसका सेना ने कराया जीर्णोद्धार, क्या है मंदिर की विशेषता ?

आज हम आपको एक ऐसे प्राचीन शिव मंदिर के बारे में बताने जा रहे है जिसका जीर्णोद्धार सेना के द्वारा कराया गया है। शिव में आस्था रखने वालों के लिए ये खबर उनकी उत्सुकता को बढ़ाने वाली है, मन में उमंग पैदा करने वाली है कि वो कैसे और कब यहां पहुंच सकते हैं।  दरअसल सेना ने जम्मू-कश्मीर  के गुलमर्ग  स्थित एक प्राचीन शिव मंदिर का जीर्णोद्धार किया और इसे मंगलवार को दोबारा आम जनता के लिए खोल दिया गया लेकिन कोरोना के चलते अभी पर्यटक यहां नहीं जा सकते। वर्ष 1915 में बना यह शिव मंदिर अभिनेता राजेश खन्ना और मुमताज की फिल्म ‘आप की कसम’ के मशहूर ‘गीत जय जय शिव शंकर’ में भी एक बार फिल्मों में नजर आया था। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि गुलमर्ग में सेना की बटालियन ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर शिव मंदिर की पूरी तरह से मरम्मत की और मंदिर की ओर जाने वाले रास्ते को भी दोबारा बनाया।

pahad and tempel

महाराजा हरि सिंह की पत्नी ने कराया था मंदिर का निर्माण

इस शिव मंदिर का निर्माण 1915 में जम्मू-कश्मीर के तत्कालीन महाराजा हरि सिंह की पत्नी महारानी मोहिनी बाई सिसोदिया ने करवाया था। शिव मंदिर के व्यापक नवीनीकरण और लंबे समय से इसके जीर्णोद्धार की जरुरत महसूस की जा रही थी। पुनर्निर्मित शिव मंदिर के जीर्णोद्धार के मौके पर मंदिर के कार्यवाहक गुलाम मोहम्मद शेख ने कहा कि “शिव मंदिर कश्मीर की बहुलवादी संस्कृति और इसकी गौरवशाली विरासत का प्रमाण है.” उन्होंने गुलमर्ग समुदाय को बिना किसी धार्मिक पूर्वाग्रह के और कश्मीरियत के वास्तविक सार में सामुदायिक सेवा जारी रखने का आह्वान किया।

sena javan in tempel

‘जीर्णोद्धार के काम में स्थानीय लोगों ने की मदद’

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिगेडियर बीएस फोगट ने कहा, “यह सभी को पता है कि कश्मीर पृथ्वी पर एक स्वर्ग है लेकिन कश्मीर की असली सुंदरता यहां के लोग हैं। गुलमर्ग एक पर्यटन स्थल है और भारतीय सेना और नागरिक प्रशासन को ध्यान में रखते हुए हमने जीर्णोद्धार का काम किया इस काम को करने में स्थानीय लोगों ने हमारी  बहुत मदद की। हमने पहल की लेकिन यह सभी के प्रयास से पूरा हुआ.” मंदिर का फिर से उद्घाटन कश्मीर पर्यटन विभाग की मदद से किया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.