Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

देश के पहले CDS जनरल बिपिन रावत ने कार्यभार संभाला , मनोज नरवणे बने नए सेना प्रमुख

नई दिल्ली। देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को कार्यभार संभाल लिया। इससे पहले रावत ने सुबह राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जाकर मातृभूमि की रक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि दी। तत्पश्चात उन्होंने ने साउथ ब्लॉक में सलामी गार्ड का निरीक्षण किया।

कामकाज संभालते वक्त जनरल बिपिन रावत के साथ उनके परिवार के सदस्य भी मौजूद थे,  कर्नल एसपीएस परमार ने बताया कि बिपिन रावत बचपन से ही कठिन परिश्रम करने वाले थे. वो फौजी पिता के फौजी बेटे हैं,  उन्होंने पिता की गाइडलाइन की फॉलो किया. मैं उनसे हमेशा ईमानदारी से काम करने की सलाह देता हूं ।

रावत गत मंगलवार को सेनाध्यक्ष के पद से सेवामुक्त हुए हैं। जनरल बिपिन रावत के उत्तराधिकारी के रूप में लेफ्टिनेंट जरनल नरवणे अभी तक सेना के उप प्रमुख का पद संभाल रहे थे । जनरल मनोज नरवणे देश के 28वें सेना प्रमुख हैं। मनोज मुकुंद नरवणे अभी तक आर्मी के उप प्रमुख थे , आर्मी चीफ बनते ही वे दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में शामिल 13 लाख थल सैनिकों के मुखिया बन गए हैं. आर्मी के वाइस चीफ बनने से पहले लेफ्टिनेंट जनरल नरवणे इस्टर्न कमांड के प्रमुख थे. इस्टर्न कमांड भारत-चीन की 4000 किलोमीटर लंबी सीमा की देखभाल करती है । अपने 37 साल के कार्यकाल के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल नरवणे विभिन्न कमानों में शांति, क्षेत्र और उग्रवाद रोधी बेहद सक्रिय माहौल में जम्मू कश्मीर व पूर्वोत्तर में अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वह जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स की बटालियन और पूर्वी मोर्चे पर इंफेंट्री ब्रिगेड की कमान संभाल चुके हैं. वह श्रीलंका में भारतीय शांति रक्षक बल का हिस्सा थे और तीन वर्षों तक म्यामांर स्थित भारतीय दूतावास में रक्षा अताशे रहे ।

केंद्र सरकार ने हाल ही में सीडीएस का पद सृजित कर उसका दायित्व तथा अन्य नियमावली को मंजूरी प्रदान की थी। सीडीएस के पद पर नियुक्त होने वाला अधिकारी चार स्टार के रैंक वाला जनरल होगा। उनका वेतन तीनों सेनाओं के प्रमुखों के समान होगा। वह सरकार को रक्षा संबंधी विषयों में सलाह देने वाला वरिष्ठ अधिकारी होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.