Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

आंदोलन कर रहे किसानों की मदद करने पर एनआईए दर्ज कर रही मुकदमे

नई दिल्ली: बस भेजने, लंगर लगाने, शहीद किसानों के परिवार को मदद करने पर एनआईए मुकदमे दर्ज कर रही है। इसका किसान मोर्चा विरोध करते है व इसके खिलाफ आंदोलन भी करेंगे। एनआईए के माध्यम से सरकार दमन कर रही है। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस में किसानों की सहभागिता, सावधानी पर चर्चा में तय हुआ कि कल सुप्रीमकोर्ट के आदेश के बाद कल निर्णय करेंगे।

111 शहीद किसानों को देंगे श्रद्धांजलि: धरना स्थल पर अखंड ज्योति गांव की मिट्टी व 1 चम्मच घी से चलाई जाएगी। गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन दिल्ली के अंदर किया जाएगा। गण की संप्रभुता का उत्सव मनाया जाएगा। परेड से बाहरी रिंग रोड की परिक्रमा की जाएगी। परेड शांति पूर्ण रहेगी। हिंसा,भड़काऊ भाषण पर पाबंदी रहेगी। गणतंत्र दिवस की परेड में कोई विघन नही डाला जाएगा। हर वाहन पर रास्ट्रीय झंडा व किसान संगठन का झंडा होगा। राजनैतिक झंडे पर पूर्ण मनाही होगी। दूर के राज्यो में राजधानी व जिला स्तर पर परेड का आयोजन होगा।

पहली बार किसी आंदोलन को रोकने के लिए पुलिस सर्वोच्च न्यायालय से आदेश मांग रही है। हम दिल्ली की जनता को भी किसान परेड देखने के लिए आमंत्रित करते है। परेड में शहीद किसान परिवार की झांकी सहित 29 राज्यो के किसानों की झांकी भी शामिल रहेगी। आज राजनैतिक दलों की बैठक में हमारे जो साथी शामिल हुए है। इस कार्यक्रम से सयुक्त किसान मोर्चा से कोई संबंध नही है।

कृषि मंत्री का आज बयान सरकार की नीयत को स्पस्ट करता है। 19 जनवरी से पहले बयान का मतलब किसानों को आक्रोशित करता है। हम इसकी निंदा करते है,लेकिन 19 जनवरी को हम इसका जबाब सरकार से लेगे। परेड का निर्णय किसान का है। हम अपनी परेड करेगे। सरकार अगर चाहती है तो बातचीत कर रास्ता तय करे। अडानी,अम्बानी के उत्पादों का बहिष्कार जारी रहेगा। किसान परेड के बाद अगले कार्यक्रम बताये जायेगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.