Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

उत्तराखंड में कोरोना के छह नए मामले, प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या पहुंची 22

उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के छह नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 22 हो गई है. आज संक्रमित पाए गए छह व्यक्तियों में से पांच नैनीताल और एक रुड़की का बताया जा रहा है. जिलावार आंकड़ों की बात करें तो सबसे ज्यादा 11 मामले देहरादून जिले में पाए गए हैं, नैनीताल में पांच, उधम सिंह नगर जिले में चार और पौड़ी तथा हरिद्वार जिले में एक-एक व्यक्ति की कोरोना जांच पाजिटिव आई है. बाकी जिलों में एक भी कोरोना पाजिटिव मरीज नहीं पाया गया है. प्रदेश में अब तक कुल 825 लोगों के सैंपल कोरोना संक्रमण की जांच के लिए भेजे जा चुके हैं.

देश की बात करें तो 26 राज्यों तथा चार केंद्र शासित प्रदेशों तक पहुंच चुके कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 2900 के पार हो चुकी है. अब तक कोरोना संक्रमण से 68 लोगों की मौत हो चुकी है.

संक्रमण की जानकारी छुपाने और सहयोग न करने वालों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना संक्रमण की जानकारी छुपाने और कोरेंटाइन अवधि के दौरान सहयोग न करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि डाक्टरों के साथ हिंसा करने, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए चार गुना ज्यादा जुर्माना वसूला जाएगा. शुक्रवार देर शाम मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि जहां एक तरफ प्रशासन और तमाम सामाजिक संगठन कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ ऐसी घटनाएं भी सामने आ रही हैं जो निंदनीय हैं.

उन्होंने कहा कि कुछ लोग जिन्हें अलग-अलग स्थानों में कोरेंटाइन किया गया है वे सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचा रहे हैं. ऐसे लोगों से चार गुना ज्यादा जुर्माना वसूलने के साथ ही डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी. मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को इस बाबत निर्देश दे दिए हैं. मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि संकट की इस घड़ी में अफवाहों पर ध्यान न दें और स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी जा रही सलाह का पालन करें. प्रदेश में अब तक 600 लोगों को कोरोंटाइन किया गया है. इनमें इनमें 308 लोग होम कोरेंटाउन हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.