Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

हिमनगरी मुनस्यारी का तापमान पहुंचा माइनस में, जलस्रोत जमने से बढ़ी मुश्किलें

पिथौरागढ़ । पूरे प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप जारी है। कहीं जगह तापमान न्यूनतम पहुंच गया है। पिथौरागढ़ जिले  के मुनस्यारी की बात करें तो यहां तापमान के शून्य डिग्री सेल्सियस से भी नीचे माइनस में चले गया है, इससे  क्षेत्र के कई जल स्रोतों का पानी जम गया है। 2400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित थमरी कुंड का पानी पूरी तरह से बर्फ में बदल गया है। क्षेत्र के अन्य जल स्रोतों का पानी जम जाने से स्थानीय लोगों के लिए पानी की समस्या पैदा हो गई है।

मुनस्यारी को हिमनगरी भी कहा जाता है और इस हिमनगरी  में न्यूनतम तापमान माइनस 1 पहुंच गया है। जिसके बाद थल-मुनस्यारी मार्ग पर बिर्थी से सटे थमरी कुंड का पानी पूरी तरह से बर्फ बन गया है। खलिया में नंदा कुंड, राकस ताल, परी ताल का पानी भी पूरी तरह से जमा हुआ है। क्षेत्र में अन्य जल स्रोतों का बहाव भी पानी जम जाने से पूरी तरह से थम गया है। इससे लोगों को भी पीने का पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। अधिकतर जल स्रोतों का पानी जम जाने से नलों में भी पेयजल की आपूर्ति ठप हो गई है। जिससे क्षेत्र की बड़ी आबादी को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। यही तापमान शून्य से नीचे चले जाने से कैलास मानसरोवर यात्रा पथ के भी सभी छह से अधिक जल स्रोतों का पानी जम गया है। सेना के जवानों को भी अग्रिम चौकियों में प्यास बुझाने के लिए बर्फ गलानी पड़ रही है। कुटी, गाला, गुंजी में भी अधिकतर जल स्रोतों का पानी जम गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.