Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

पुलिस ने हरिद्वार में हुए बलात्कार हत्या का सह-आरोपी यूपी से दबोचा

देहरादून: वो सीसीटीवी को मात दे देता था, कि कहीं उसे कोई देख न ले। शातिर इतना कि टोल नाकों पहले ही अपनी मंजिल के रास्ते बदल देता था, कि कहीं उस पर किसी कि नजर न पड़ जाए। हर दिन अपना ठिकाना बदल देता था, तकि पुलिस उसे ट्रेस न कर ले। इतना ही नहीं बीते एक सप्ताह से मोबइल तक उपयोग नहीं कर रहा था, ताकि पुलिए टीम उसे ट्रैक न कर ले। यह शातिर है हरिद्वार नाबालिक केस का सहअभियुक्त राजीव। जिसने दो राज्यों की पुलिस को चकमा दे रखा था। लेकिन, कहते है अपराधी कितना ही शातिर क्यों न हो। कानून के हाथों से नहीं बच सकता। उत्तराखंड पुलिस की टीम मुस्तैदी के चलते राजीव रविवार को उत्तराखंड पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

एक लाख का इनामी था राजीव
रविवार को उत्तराखंड पुलिस ने मामले के सहअभियुक्त राजीव को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी राजीव की फरारी के बाद से ही इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई थी। मामले की संजीदगी को देखते हुए फरार आरोपी के सिर पर एक लाख रूपये के इनाम की घोषणा भी की गई थी। मामले में डीजीपी अशोक कुमार ने पीड़ित पक्ष को जल्द आरोपी की गिरफ्तारी का भरोसा दिलाया। डीजीपी ने प्रदेश पुलिस को आरोपी को जल्द से जल्द सलाखों के पीछे डालने के निर्देश दिए। जिसके बाद उत्तराखंड पुलिस की ओर से तकरीबन आधा दर्जन टीमें गठित की गई। लेकिन, आरोपी इतना शातिर था कि उसे ट्रैक करना संभव नहीं हो पा रहा था। तकनीकी के दौर में ट्रैक होने के डर के चलते आरोपी न सीसीटीवी की जद में आया और न ही मोबाइल का उपयोग किया। जिस कारण पुलिस को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ा। इस बीच सीओ मंगलौर की अगुवाई में एसओजी रुड़की की टीम ने आरोपी को घर दबोचने के लिए परंपरागत तरीकों को अपनाया। मैनुअल पुलिसिंग के इस सिस्टम ने आखिरकार सफलता हासिल कर ली।

उत्तर प्रदेश पुलिस की टीमें करती रही तलाश
मामले में उत्तरप्रदेश पुलिस की ओर से भी कई टीमें अंदरखाने एक लाख के इनामी आरोपी राजीव की तलाश में थी। लेकिन, आरोपी इन सात दिनों में लगातार अपने ठिकाने बदलता रहा, बिना किसी सुराग के आरोपी तक पहुचना पुलिस के लिए चुनोती से कम नही था। लेकिन उत्तराखंड पुलिस की फुर्ती और निष्ठा ने मैनुअल वर्किंग के जरिए आरोपी को दूसरे राज्य में भी खोज निकाला, जो खुद उस राज्य की पुलिस नहीं कर पाई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.