Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

शुक्रवार (कल) को देश भर की ग्राम पंचायतों के साथ वार्तालाप करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

कुलदीप तोमर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  24 अप्रैल को देशभर में विभिन्न ग्राम पंचायतों को संबोधित करेंगे। प्रतिवर्ष इस दिन को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश में लॉकडाउन के कारण सोशल डिस्टेंसिंग के पालन को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वार्तालाप करेंगे।इस दौरान ई-ग्रामस्वराज पोर्टल और मोबाइल ऐप का भी शुभारंभ किया जाएगा। ग्राम स्वराज पोर्टल पंचायती राज मंत्रालय की एक नई पहल है जो ग्राम पंचायतों को अपनी ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) को तैयार करने और कार्यान्वित करने के लिए एकल इंटरफ़ेस प्रदान करेगी। इस अवसर पर प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना का भी शुभारंभ करेंगे। यह योजना पंचायती राज मंत्रालय, राज्य पंचायती राज विभाग, राज्य राजस्व विभाग और भारतीय सर्वेक्षण विभाग के सहयोग से ड्रोन तकनीक के द्वारा नवीनतम सर्वेक्षण विधियों का उपयोग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में रिहाईशी भूमि के सीमांकन के लिए ग्रामीण भारत हेतु एक एकीकृत संपत्ति सत्यापन का समाधान प्रदान करती है। हर वर्ष, इस अवसर पर, पंचायती राज मंत्रालय, सेवाओं और सार्वजनिक वस्तुओं के वितरण में सुधार के लिए बेहतर कार्यों को मान्यता देते हुए पंचायतों को प्रोत्साहन देने के तहत देश भर में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली पंचायतों/ राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को पुरस्कृत करता रहा है। इस वर्ष भी इस तरह के तीन पुरस्कारों- नानाजी देशमुख गौरव ग्राम सभा पुरस्कार (एनडीआरजीजीएसपी), बाल-सुलभ ग्राम पंचायत पुरस्कार (सीएफजीपीए) और ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) पुरस्कार को संबंधित राज्यों/संघ शासित प्रदेशों को दिया जाएगा।

क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस

पंचायती राज मंत्रालय, हर वर्ष 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस (राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस) (एनपीआरडी) के रूप में मनाता है, क्योंकि इसी तिथि को 73वां संवैधानिक संशोधन लागू हुआ था। 24 अप्रैल, 1993 को संविधान के (73वें संशोधन) अधिनियम, 1992 के माध्यम से जमीनी स्तर पर सत्ता का विकेंद्रीकरण किया गया और यह अधिनियम इसी दिन से प्रभावी भी हो गया। यह अवसर पूरे देश के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ सीधे संवाद का अवसर प्रदान करता है और साथ ही उनकी उपलब्धियों को सशक्त बनाने और उन्हें आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करता है।

इस वर्ष इन पुरस्कार पर रहेगी देशभर के ग्राम पंचायतों की नजर  

इस वर्ष कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण केवल तीन श्रेणियों के तहत पुरस्कारों का वितरण किया जाएगा। इन पुरस्कारों में नानाजी देशमुख गौरव ग्राम सभा पुरस्कार (एनडीआरजीजीएसपी), बाल-सुलभ ग्राम पंचायत पुरस्कार (सीएफजीपीए) और ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) पुरस्कार शामिल है। अन्य दो श्रेणियों के पुरस्कारों को अंतिम रूप दिया जाएगा और राज्यों को प्रक्रिया पूरी करने के बाद अलग से इसकी जानकारी दी जाएगी जो कोविड-19 महामारी के कारण विलंबित हो गई है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.