Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

नैनीताल में बाहर से आने वाले हर वाले हर हाल में होंगे क्वारंटीन

SATYAVOICE.COM रिपोर्टर कुंवर पवन प्रताप सिंह की रिपोर्ट 

नैनीताल जिले में बाहर के जिलों और राज्यों से से आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से संस्थागत कोरेन्टाइन सेन्टरों में रहना होगा। स्वास्थ्य विभाग की संस्तुति पर ही होम कोरेन्टाइन की व्यवस्था होगी। यह जानकारी नैनीताल के जिलाधिकारी सविन बंसल ने दी है। उन्होंने बताया कि जनपद में शहरीय क्षेत्रों मे कोरेन्टाइन सेन्टर होटलों, बारातघरों तथा अतिथि गृहों मे बनाये गये हैं। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के संस्थागत कोरेन्टाइन सेन्टर पंचायत घरों, राजकीय विद्यालयों तथा अन्य सरकारी भवनों में स्थापित किये गये है। उन्होने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के कोरेन्टाइन सेन्टर मे व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी ग्राम प्रधानों को दी गई है तथा ग्रामीण कोरेन्टाइन सेन्टरों की मानिटरिंग के लिए ग्राम पंचायत अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी तथा सम्बन्धित विद्यालय के अध्यापकों को ड्यूटी पर लगाया गया है।

 

फंड की नहीं है कोई कमी
जिलाधिकारी बंसल ने जिले के सभी ग्राम प्रधानों से कहा है कि फंड की कोई कमी नही है सभी ग्राम प्रधानों के पास राज्य वित्त से सम्बन्धित सभी वित्तीय संसाधन उपलब्ध है। पिछले वर्ष की लम्बित धनराशि को सभी ग्राम प्रधान कोरोना संक्रमण आपदा के लिए विशेष परिस्थितियों मे व्यय करें। उन्होेने सभी ग्राम प्रधानों को आश्वस्त करते हुये कहा है कि यदि और धनराशि की आवश्यकता होगी तो उन्हे धनराशि मुख्य मंत्री राहत कोष अथवा जिला दैवीय आपदा मद से अवमुक्त की जायेगी।

 

कंट्रोल रूम में शिकायत करें प्रधान

प्रधान आपदा कन्ट्रोल रूम नैनीताल के दूरभाष नम्बर 05942-231178, 231179 अथवा टाॅल-फ्री नम्बर 1077 तथा हल्द्वानी में संचालित कोविड कन्ट्रोल रूम के दूरभाष नम्बर 05946-281234 अथवा 287722 पर बात कर सकते है। उन्होने कहा कि यह सभी नम्बर चैबीस घंटे कार्यरत है। उन्होने ग्राम प्रधानों से यह भी कहा है कि ग्राम सभाओं मे तैनात किये गये ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी तथा अध्यापक यदि ड्यूटी पर नही आ रहे है अथवा सहयोग नही कर रहे हैं तो इसकी भी जानकारी कन्ट्रोल रूम के नम्बरों पर दें। ऐसे लापरवाह कर्मचारियों के विरूद्व दैवीय आपदा एक्ट की विभिन्न धाराओ में कार्यवाही की जायेगी।

 

 

बैठक करेंगे अधिकारी 
डीएम ने जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी तथा जिला पंचायत राज अधिकारी अतुल प्रताप सिह को निर्देश दिये हैं कि वह तत्काल विकास खण्ड मुख्यालयों पर ग्राम प्रधानो के साथ बैठक कर उनकी समस्याओ का निराकरण करें तथा इस सम्बन्ध में वांछित जानकारी भी दें। अधिकारियों एवं ग्राम प्रधानो के बीच किसी भी प्रकार की संवादहीनता नही होनी चाहिए। सभी खण्ड विकास अधिकारी अपने क्षेत्र के ग्राम प्रधानो का वाट्सएप ग्रुप बनाकर अपनी समस्याओं का संज्ञान लें तथा सकारात्मक कार्यवाही सुनिश्चित करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.