Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

यूपी में धारा-144 लागू; अपनी मांगों पर अड़े राकेश टिकैत

गाजियाबाद जिला प्रशासन ने किसानों को यूपी गेट से धरना स्थल खाली करने का अल्टीमेटम दिया है। हाइवे खाली करने के नोटिस मिलने के बाद भाकियू के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने धरना स्थल से हटने से इनकार कर दिया है। राकेश टिकैत ने रोते हुए कहा कि कुछ लोग प्रशासन के साथ मिलकर साजिश कर रहे हैं। अब किसी भी हालत में ये आंदोलन समाप्त नहीं होगा।

बृहस्पतिवार शाम को जिलाधिकारी अजयशंकर पांडेय ने राकेश टिकैत व अन्य किसान नेताओं को नोटिस जारी कर हाईवे खाली करने को कहा था। इसके बाद राकेश टिकैत गिरफ्तारी देने को तैयार थे। हालांकि एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह उनसे बात करने मंच पर पहुंचे ही थे कि राकेश टिकैत को पता चला कि आंदोलन स्थल से कुछ दूरी पर भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर अपने समर्थकों के साथ नारेबाजी कर रहे हैं। इसके बाद टिकैत ने गिरफ्तारी देने से इनकार कर दिया और अनशन पर बैठ गए।

धरने पर बैठे राकेश टिकैत की आंखों में आंसू आ गए। बोले कि किसान शांतिपूर्ण धरना दे रहे हैं। लेकिन सरकार किसानों के खिलाफ साजिश कर उनकी आवाज दबा रही है। सरकार भले आंदोलन का बिजली पानी काट दे, अब आसपास के गांवों से ही उनके लिए पानी आएगा।।

यूपी गेट पर धारा-144 लागू

यूपी गेट पर गाजियाबाद जिला प्रशासन ने धारा-144 लगा दी है। कानून व्यवस्था खराब न हो इसके लिए गाजीपुर बॉर्डर पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। प्रशासन की तरफ से अल्टीमेटम के बाद कुछ लोग वहां से जाने लगे। ट्रैक्टर से जाने वाले लोगों ने कहा कि अब वे अपने गृह जिले से आंदोलन करेंगे। धरना स्थल पर अब वहां पर काफी कम संख्या में लोग हैं।

यूपी गेट से देशद्रोही और खालिस्तानी गो बैक के नारे लगे

यूपी गेट पर धरना दे रहे प्रदर्शनकारियों के खिलाफ अब स्थानीय लोग खुलकर सामने आ गए हैं। कौशम्बी और वैशाली से आए लोगों ने खालिस्तानी गो बैक के नारे लगाए। इसके अलावा देशद्रोही वापस जाओ के भी नारे लगाए गए। लोगों का कहना है कि ये लोग किसान नहीं है। किसान आंदोलन के विरोध में यूपी गेट पर स्थानीय लोगों ने जमकर नारेबाजी की, और पुलिस से हाईवे पर धरना स्थल खाली कराने की मांग की।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को पूरी तरह से बंद

धरना स्थल से प्रदर्शनकारियों को हटाने के आदेश के बाद दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। अब दिल्ली से वाहन नहीं आ सकेंगे। दोनों तरफ से बैरिकेड लगा दिए गए हैं। एक्सप्रेसवे बन्द होने के कारण हिंडन नहर रोड पर भीषण जाम लग गया है।

छावनी में तब्दील हुआ धरना स्थल

धरना स्थल पर बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। लिंक रोड पर तैनात सुरक्षा बल मुस्तैदी से तैनात हैं। वहीं यूपी गेट पर कुछ लोग लाठी-डंडे लेकर घूमते देखे गए। पुलिस की इन पर तीखी नजर है।

बता दें कि दिल्ली हिंसा में अब तक 33 एफआइआर दर्ज की गई है। ये मामले दिल्ली के कई पुलिस थानों में दर्ज किए गए हैं। इनमें से 9 मामले क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिए गए हैं। पुलिस ने 44 लोगों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.