Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

अनोखी शादीः उत्तराखंड में बर्फबारी के बीच हुए सातफेरे

चमोली।। उत्तराखंड

रिपोर्ट- जितेंद्र पंवार 

यूं तो शादी समारोहों का होना आम बात है। लेकिन जब शादी (MARRIAGE) के दौरान बर्फ़बारी (SNOWFALL) हो जाए तो बारात आम नहीं खास हो जाती है। उत्तराखंड (UTTAARAKHAND) के चमोली (CHAMOLI) जिले के घाट इलाके के रामणी गांव की एक शादी ऐसे ही खास बन गई। गांव के राजेंद्र-शोभा (RAJENDRA-SHOBHA MARRIAGE) की शादी के दौरान हुई बर्फ़बारी ने इसे खास बना दिया। जिससे इसकी चर्चा देश-दुनियां में होने लगी है।

बर्फबारी से ऐसे खास हुई स्मार्ट राजेंद्र और खूबसूरता शोभा की शादी 

13 दिसंबर को रामणी गांव के राजेन्द्र अपनी दुल्हन शोभा को लेने जैसे ही बारात लेकर घर से निकले तो बहारों ने भी बारात के स्वागत के लिए आसमान से फूलों के बदले सफेद सोना बरसा दिया। घरती चारों ओर बर्फ से पट गयी। प्रकृति के अभूतपूर्व सौंदर्य (NATURE BEAUTY) से धरती सोना लग रही थी। क्या दूल्हा, क्या बाराती बर्फ़बारी के बीच इंजॉज करते हुए पूरी बारात घर से निकली।

पैदल की चल पड़ा दुल्हनिया से मिलने बेताब दूल्हा

घाट इलाके में भारी बर्फबारी के बीच सड़क बंद हो चुकी थी। लेकिन दूल्हा राजेंद्र अपनी दुल्हनिया से मिलने को बेताब था। लिहाजा दूल्हेराजा पैदल ही निकल पड़े प्यारी-खूबसूरत दुल्हनिया को लेने चरबंग गांव। फिर क्या था आगे-आगे दूल्हे राजा चले और पीछे-पीछे पहाड़ी ढोल, दमाऊं में नाचते-कूदते बाराती। हालांकि दुल्हन के घरवालों को जैसे ही पता लगा कि दामाद जी पैदल की यहां के लिए निकल पड़े हैं तो उन्होंने आनन-फानन में दो घोड़ों का इंतजाम कराया। एक दूल्हे और दूसरे उनके पिता के लिए। इस तरह बर्फबारी के बीच 16 किलोमीटर पैदल चलकर राजेंद्र ने शोभा के साथ सात फेरे लिए। हालांकि ज्यादा बर्फबारी के कारण इस 13 दिसंबर की रात को बाराती दुल्हन के घर के गांव चरबंग में ही रुके। और अगले दिन पैदल यात्रा कर अपने गांव रवाना हुए। इस दौरान बाराती दुल्हन और उसकी साथियों से मजाक करते दिखे। साथ ही नई-नवेली नाजुक दुल्हनिया की मदद भी करते दिखे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.