Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामला, क्या है वायरल हो रहे काले बैग का रहस्य? जानिए

मुंबई: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत 14 जून को हुई थी. उस दिन के कुछ वायरल हुए वीडियो में यह दावा किया जा रहा है कि पुलिस की मौजूदगी में एक व्यक्ति संदिग्ध काले बैग को लेकर कमरे से निकला और फिर तब से ही वो बैग गायब है.

वायरल वीडियो में नजर आ रहा एक आदमी और एक महिला संदिग्ध बताए जा रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि इस काले बैग में सबूत थे जिसे गायब किया गया. 14 जून को सुशांत के कमरे में बनाए गए वीडियो में ब्लैक ड्रेस में एक आदमी सुशांत की बॉडी के पास काला बैग पकड़े नजर आ रहा है. इसने लाइट पिंक कलर की कैप लगाई हुई है. इस आदमी को बैग थामे सीढ़ियों से उतरते भी देखा जाता है.

इसी वीडियो में ब्लू और व्हाइट रंग की स्ट्रिप्ड शर्ट पहने एक लड़की भी सुशांत की बिल्डिंग कम्पाउंड में दौड़ती नजर आती है. वह जाकर इस ब्लैक ड्रेस वाले शख्स से मिलती है और कुछ बात करती है. इसके बाद ब्लैक ड्रेस वाले व्यक्ति के हाथ से बैग गायब नजर आता है. खास बात यह है कि जिस समय यह सब हो रहा होता है, तब मुंबई पुलिस भी वहीं मौजूद रहती है.

हमने पड़ताल की और काले बैग के रहस्य से पर्दा उठाया. दरअसल पड़ताल में पता चला की यह काला बैग नहीं बल्कि एम्बुलेंस में रखा रेग्जीन पोर्टेबल बैग है. इस बैग का उपयोग डेड बॉडी को एम्बुलेंस तक ले जाने के लिए किया जाता है जहां स्ट्रेचर नही जा सकता.

गौरतलब है की सुशांत का डुप्लेक्स फ्लैट माउंट ब्लेंक की 6वी मंजिल पर था जहां स्ट्रेचर लिफ्ट या सीढ़ी से नही जा सकता था. इस रेग्जीन पोर्टेबल बैग को पकड़ने वाला व्यक्ति एम्बुलेंस चालक है जो शव को 6वी मंजिल से ग्राउंड फ्लोर तक उतारने के काम से कमरे में गया था. ब्लू टी-शर्ट वाली लड़की शौविक की दोस्त बताई जा रही है जो मौत की खबर सुनकर भागते हुए सोसाइटी में मीडिया के सामने अंदर जा रही है.

एम्बुलेंस के चालक और काले कपड़े में दिखने वाले युवक के भाई विशाल ने एबीपी न्यूज़ के सामने सच्चाई बताई है. विशाल ने बताया की पुलिस के निर्देश के मुताबिक शव को एम्बुलेंस में रखने और कूपर अस्पताल तक पहुचाने का निर्देश मिला था. पोर्टेबल रेग्जीन बैग शव उठाने के लिए होता है. उस दिन 2 एम्बुलेंस माउंट ब्लेंक घर पर आई थी. पहली एम्बुलेंस में स्ट्रेचर का पहिया खराब था और उसपर बॉडी फिट नही हो रही थी जिसके बाद दूसरा एम्बुलेंस मंगाया गया था. एम्बुलेंस के चालक विशाल ने बताया की, उन्हें सोशल मीडिया और फोन पर धमकियां मिल रही है और इसकी लिखित शिकायत वो मुम्बई पुलिस की साइबर सेल में दर्ज कराएंगे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.