Uttarakhand News | उत्तराखंड की ताजा खबरें

सम्मोहित कर लूटने वाला वो ठग आपके घर न आ जाए

दून पुलिस ने एक ऐसे ठग को पकड़ा है जो लोगों को सम्मोहित करके ठगता था। इस ठग का दूसरा साथी अभी फरार है। पुलिस उसकी तलाश में दबिश दे रही है। इसलिए आपको सचेत रहना होगा। कहीं वो ठग आपको ठगने न आ धमके और आप जाल में फंस जाएं। फरार ठग की तलाश में पुलिस की टीम मेरठ से लेकर दिल्ली- एनसीआर में दबिश दे रही है।

पुलिस ने गिरफ्तार किए गए ठग से एक सोने का कंगन, एक अंगूठी और वारदात में प्रयुक्त स्कूटी बरामद की है।  एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि ओएनजीसी से रिटायर्ड जेपी जैन निवासी चमन विहार, पटेलनगर किसी काम से गोविंदगढ़ आए थे। दोपहर में वह जीएमएस रोड होते हुए घर लौट रहे थे। रास्ते में स्कूटी सवार दो युवकों ने उन्हें रोका। दोनों युवकों ने उनके पैर छुए, इसके बाद एक युवक वहां से आगे निकल गया। दूसरे युवक ने जैन से कहा कि वह मोबाइल की दुकान खोलने जा रहा है। आपके आशीर्वाद से अमीर बन गया हूं। युवक ने उन्हें मोबाइल का डिब्बा पकड़ाते हुए कहा कि यह उनके लिए गिफ्ट है। इस दौरान उसने उंगली में पहनी अंगूठी निकालते हुए कहा कि वह उन्हें इससे बड़ी अंगूठी देगा।

युवक अंगूठी लेकर स्कूटी से आगे चलने लगा और जैन को पीछे आने के लिए कहा। थोड़ी दूर चलने के बाद युवक स्कूटी लेकर फरार हो गया। जैन ने जब डिब्बा खोला तो उसमें फोन के साइज का कांच का टुकड़ा रखा हुआ था।

पुलिस ने जब इस मामले की जांच शुरू की तो पता चला कि स्कूटी का नंबर मेरठ का है। पता चला कि स्कूटी वसीम पुत्र इस्माइल निवासी घासमंडी कस्बा लाबड़, इचौली, मेरठ के नाम से पंजीकृत है। वसीम को पुलिस ने मेरठ से उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला कि वारदात में उसके साथ मो. अमान पुत्र सलाऊद्दीन निवासी ग्राम चोपला कस्बा लाबड़ इचौली, मेरठ भी शामिल था। मगर अमान घर से फरार मिला। वसीम ने पूछताछ में बताया कि दोनों ने तीन नवंबर को वृद्ध महिला माया सिंह निवासी इंद्रानगर से भी इसी तरह सम्मोहित सोने के कंगन ठगे थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.