Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

12 मई को उत्तराखंड के 12 सौ लोगों की होगी ट्रेन से घर वापसी

SATYAVOICE.COM के लिए संवाददाता कुंवर पवन प्रताप सिंह की रिपोर्ट

देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे उत्तराखंड के प्रवासी मजदूरों और नौकरी-पेशा लोगों की ट्रेनों के जरिए घर वापसी का सिलसिला 11 मई से शुरु होने जा रहा है। पहली ट्रेन गुजरात के सूरत से 12 सौ लोगों को लेकर काठगोदाम पहुंचेगी। ट्रेन 12 मई की सुबह काठगोदाम पहुंच जाएगी। यात्रियों को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद इनके जिलों में भेजा जाएगा। हल्द्वानी में लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण की बड़ी तैयारियां की जा रही हैं। साथ ही काठगोदाम स्टेशन पर ट्रेन के आते ही यात्रियों को कैसे सोशल डिस्टेंग के जरिए उतारा जाए इस पर माथापच्ची चल रही है। हल्द्वानी एसडीएम विवेक राय ने बताया कि प्लेट फॉर्म पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए पेंट के गोले बना दिए गए हैं। यात्रियों को प्लेटफॉर्म नंबर-1 के बाहरी हिस्से में बने गेट से बाहर निकाला जाएगा। और बसों में भरकर इंटरनेशनल स्टेडियम ले जाया जाएगा। जहां हेल्थ स्क्रीनिंग होगी। हालांकि रेलवे स्टेशन पर ही हेल्थ स्क्रीनिंग की व्यवस्था पर भी विचार हो रहा है।

बलूनी की कोशिश लाई रंग

राज्यसभा सांसद और बीजेपी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी ने सबसे पहले रेल मंत्री पियूष गोयल से गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी उत्तराखंडी कामगारों की घर वापसी के लिए ट्रेन चलाने की मांग की थी। रेल मंत्री ने बलूनी को भरोसा दिया था कि सभी यात्रियों को उत्तराखंड पहुंचाया जाएगा। बलूनी की इसी ठोस कोशिश के बाद राज्य सरकार की मशीनरी भी हरकत में आई थी।  जिसका नतीजा ये कि 11 मई को पहली ट्रेन गुजरात के सूरत से काठगोदाम के लिए रवाना होगी।

सांसद बलूनी और सीएम त्रिवेंद्र का किया शुक्रिया

जिन यात्रियों ने ट्रेन में आने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है उन्हीं में से हैं अल्मोड़ा के अजय राणा और अजय कालाकोटी। इसी तरह बागेश्वर की आशा देवी, रमेश सिंह बिष्ट, सूरज आर्या, पिथौरागढ़ के मोहन ताकुली, कैलाश जोशी, ऊधम सिंह नगर के सुरजीत सिंह, राजेश कुमार, हल्द्वानी के रोहन कनियाल, मोहन राम, चंपावत के अनुज बिष्ट, खिलानंद जोशी और रानीखेत के चंचल सिंह और चंद्रा रावत ने विशेषकर सांसद अनिल बलूनी को धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि उन्हें इतनी जल्दी घर वापसी की उम्मीद नहीं थी। लेकिन सांसद अनिल बलूनी और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की बदौलत ये हो सका है। क्योंकि सरकार द्वारा की गई हमारी चिंता ने हमारे घर वालों की चिंता को खत्म कर दिया है।

उत्तराखंड पुलिस ने फेसबुक पेज साझा की खुशखबरी

उत्तराखंड पुलिस ने अपने फेसबुक पेज पर आधिकारिक जानकारी साझा करते हुए लिखा कि सूरत से 11 मई की सुबह अल्मोड़ा के 119, बागेश्वर के 291 चम्पावत के 6, हल्द्वानी के 462, नैनीताल के 48, पिथौरागढ़ के 254, रानीखेत के 4 और ऊधमसिंहनगर के 16 यात्री कुल मिलाकर 200 प्रवासियों को लेकर एक ट्रेन काठगोदाम के लिए प्रस्थान करेगी। कृपया धैर्य बनाए रखें बहुत जल्द ही कई और ट्रेनें और बसें अलग-अलग राज्यों से उत्तराखंड की ओर प्रस्थान करेंगी।  साथ ही पुलिस ने लिखा कि पुणे में हॉटस्पॉट का issue आ गया है। जिस कारण अभी वहां से ट्रेन के चलने में delay हो रहा है, लेकिन वार्ता चल रही है जल्द ही पुणे से भी ट्रेन उत्तराखंड आएगी। अभी तक लगभग 26 हजार प्रवासी सकुशल उत्तराखंड लाये गए हैं। आप सभी से अपील है कृपया धैर्य रखें! आप सभी को सकुशल उत्तराखंड लाया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.