Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

उत्तराखंड सरकार भी शराब पर कोविड टैक्स लगाने की तैयारी में, देखिए कितने बढ़ सकते हैं रेट

दिल्ली सरकार की तर्ज पर अब उत्तराखंड सरकार भी शराब पर कोविड टैक्स लगा सकती है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तराखंड में शराब के दामों में अब 50 से 60 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है। दरअसल दिल्ली सरकार ने भी इससे पहले शराब पर कोरोना टैक्स लगाया और कीमतों में 70 फ़ीसदी बढ़ोतरी कर दी। ऐसे में सवाल उठ रहा है क्या दिल्ली सरकार की तर्ज पर देश की बाकी सरकारें भी ऐसा करेंगी?  फिलहाल उत्तराखंड से यह खबर आ रही है शराब पर कोविड टैक्स शराब पर कोविड टैक्स लगाया जा सकता है और शराब के दामों में 60 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है। यदि उत्तराखंड में यह वृद्धि होती है तो शराब की कीमतों में 60-70 फीसदी का उछाल देखने को मिल सकता है।

दिल्ली में अब 70 फीसदी मंहगी मिल रही है शराब

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने 5 मई से शराब पर विशेष कोरोना टैक्स लगाया है जिसके चलते इसके दाम 70 प्रतिशत बढ़ गए हैं। हालांकि इस बात का भी असर दिल्लीवालों पर नहीं पड़ा है और उन्होंने आज सुबह से ही लंबी कतारों में लगकर दुकान खुलने का इंतजार किया और अब भी लाइन में लगकर अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। लोग सुबह साढ़े पांच बजे से कतारों में खड़े हैं। वहीं एक जगह पर कतार में खड़े लोगों पर एक शख्स ने फूल भी बरसाए।  लॉकडाउन 3.0 के पहले दिन शराब की दुकानों पर उमड़ी भीड़ को सीमित करने और सरकारी राजस्व बढ़ाने के मकसद से दिल्ली सरकार ने स्पेशल कोरोना शुल्क लगा दिया था। दिल्ली सरकार की तर्ज पर अन्य राज्यों की सरकारें भी शराबा पर कोरोना कर लगाने की तैयारी में हैँ।

क्यों महंगी शराब पी रहे लोग

दरअसल करीब डेढ़ महीने से लॉकडाउन के चलते बंद शराब की दुकानें अब खुली हैं तो लोग किसी भी तरह से शराब खरीद लेना चाहते हैं। वहीं सीमा सील होने के चलते किसी अन्य जगह से भी खरीद कर  नहीं लाया जा सकता।

लोगों में दुकानें फिर से बंद होने का डर

कई लोगों का मानना है कि हो सकता है कि आने वाले दिनों में सरकार फिर से सख्ती कर दे और सभी दुकानें बंद हो जाएं तो लोग शराब का स्टॉक भी कर रहे हैं।  ऐसे में राज्य सरकारें भी दिल्ली सरकार की तर्ज पर इस समय को भूनाने के पक्ष में है, क्योंकि कोविड टैक्स लगने के साथ ही राज्यों के राजस्व में एकदम वृद्धि होगी। आपको बता दें कि राज्य सरकारों के कुल राजस्व का 20-25 फीसदी हिस्सा केवल शराब से ही आता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.