Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

‘जिसने देवभूमि उत्तराखंड के खूबसूरत ‘रानीखेत’ को नहीं देखा उसने भारत क्या देखा’

देहरादून: रानीखेत उत्तराखंड राज्य के प्राचीन शहरों में से एक बहुत खूबसूरत हिल स्टेशन है। इस नगरी को ब्रिटिश काल में अंग्रेजों ने ग्रीष्मकाल में रहने के लिए विकसित किया था। रानीखेत का शांत वातावरण और प्राकृतिक सुंदरता पर्यटकों को आकर्षित करती है। वहीं, रानीखेत भारतीय सेना के कुमाऊं रेजिमेंट मुख्यालय के लिए भी प्रसिद्ध है। आप यहां पर घूमने के साथ ही ट्रेकिंग का भी आनंद ले सकते हैं। हिमालय की पहाड़ियों और जंगलों के बीच बसा यह शहर हर व्यक्ति के मन को तरो-ताजा कर देता है। साथ ही वन्यजीवों की कई प्रजातियां भी आपको यहां देखने को मिलेगी। अगर आप भी उत्तराखंड घूमने के लिए जा रहे हैं, तो आज आपको रानीखेत और इसके पास के दर्शनीय स्थलों के बारे में हम बताने जा रहे हैं।

वहीं, उत्तराखंड का रानीखेत शहर और आस-पास का क्षेत्र पैराग्लाइडिंग की वजह से भी काफी लोकप्रिय है। पैराग्लाइडिंग ट्रैक शहर से कुछ दूरी पर है जहां आप ऑटो या टैक्सी लेकर जा सकते हैं। अगर आप प्रकृति प्रेमी और एडवेंचर लवर्स हैं तो आपको यहां जरूर जाना चाहिए। पैराग्लाइडिंग के अलावा आप यहां ट्रेकिंग और गोल्फिंग का भी मजा उठा सकते हैं।

आपको बता दें कि पयर्टक स्थल रानीखेत का शांत वातावरण, फूलों से ढके रास्ते, देवदार और पाईन के लम्बे लम्बे पेड़ हर साल बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं।

हिल स्टेशन रानीखेत उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में स्थित है। रानीखेत एक छोटा शहर है जो समुद्र तल से 1824 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां का शांत वातावरण, फूलों से ढके रास्ते, देवदार और पाईन के लम्बे लम्बे पेड़ हर साल बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। यहां से बर्फ से ढकी मध्य हिमालयी पहाड़ियां भी दिखाई देती हैं। रानीखेत की मनमोहक सुंदरता के बारे में एक बार नीदरलैंड के राजदूत ने कहा था कि जिसने रानीखेत को नहीं देखा उसने भारत को नहीं देखा। कुमाऊं रेजिमेन्ट का मुख्यालय रानीखेत में स्थित है जिस कारण यहां चारों तरफ आपको साफ सफाई देखने को मिलेगी। रानीखेत के नाम के बारे में कहा जाता है की सैकड़ों वर्षों पहले एक रानी यहां घूमने के लिए आई थीं लेकिन यहां की प्राकृतिक सुंदरता देख वे इतनी मंत्र मुग्ध हो गईं की उन्होंने इस क्षेत्र को ही अपना स्थायी निवास बना लिया तभी से ही इस क्षेत्र को रानीखेत कहा जाने लगा।

कलिका पर्यटन स्थल
रानीखेत हिल स्टेशन से लगभग 6 किमी की दूरी पर स्थित कलिका रानीखेत के प्रमुख पर्यटन स्थलों से एक है। कहा जाता है कि यह स्थान हरे-भरे जंगलों और बर्फ बारी के समय में बर्फ की चादरों से ढक जाता है। यह जगह कलिका मंदिर के साथ-साथ गोल्फ ग्राउंड के लिए प्रसिद्ध मानी जाती है। रानीखेत से इस जगह जाने के लिए आप लोकल टैक्सी से जा सकते हैं। ये जगह पिकनिक स्पोर्ट के लिए भी मानी जाती है।

चैबटिया बाग
रानीखेत का चैबटिया बाग प्लम, आड़ू और खुबानी के लिए प्रसिद्ध जगह मानी जाती है। अगर आपको सेब की भी खेती देखनी है तो इस बाग में पहुंच सकते हैं। कहा जाता है कि इस बाग से नंदा देवी, नीलकंठ और त्रिशूल की चोटियों के आकर्षक दृश्यों को देख सकते हैं। इस बाग के आस-पास ऐसी कई प्राचीन और पौराणिक मंदिर भी मौजूद है जहां आप घूमने के लिए जा सकते हैं।

गोल्फ कोर्स

रानीखेत का सबसे बड़ा आकर्षण है यहां का विश्व प्रसिद्ध गोल्फ का मैदान, इस मैदान को उपट कालिका के नाम से भी जाना जाता है। दूर-दूर तक फैले चीड़ व देवदार के लम्बे और घने पेड़ पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं।

भालू डैम

भालू डैम चैबटिया गार्डन से केवल 3 किमी की दूरी पर पड़ता है, ये डैम फिशिंग (मछली पकड़ना) के लिए काफी प्रसिद्ध है।

हेड़ाखान मंदिर

रानीखेत से 6 किमी दूर ये स्थान चिलियानौला के नाम से भी जाना जाता है। यहां का वातावरण काफी शांत रहता है। यहां से हिमालय की विशाल पर्वत श्रृंखला आसानी से देखी जा सकती है। नंदा देवी पर्वत तो यहां से ठीक सामने नजर आता है।

झूला देवी मंदिर व राम मंदिर

झूला देवी मंदिर दुर्गा माता को समर्पित है। यहां दूर से ही घंटियों की आवाज आनी शुरू हो जाती है। इस मंदिर में मनोकामना पूरी होने पर घंटी चढ़ाने की मान्यता है। पूरे मंदिर में आपको छोटी बड़ी घंटियां देखने को मिल जाएंगी। यहां से कुछ कदम की दूरी पर एक राम मंदिर भी है।

कैसे जाएं पर्यटन नगरी रानीखेत…..

  • हवाई मार्ग- यहां से 19 किमी की दूरी पर पंतनगर हवाई अड्डा है।
  • रेल मार्ग- यहां का प्रमुख रेलवे स्टेशन काठगोदम है जहां हर प्रमुख शहर से ट्रेन आती जाती हैं।
  • सड़क मार्ग- यह सबसे बेहतर विकल्प है। यह हर जगह से अच्छी तरह सड़क से जुड़ा हुआ है। रानीखेत के लिए हर प्रमुख शहर से बसें भी उपलब्ध हैं।
Leave A Reply

Your email address will not be published.