Uttar Pradesh , Uttarakhand News | उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड की ताजा खबरें

राशन बांटते हो कि ‘भूखा मारने’ के लिए बैठे हो

यहां राशन बांटते हो कि जनता को ‘भूखा मारने’ के लिए बैठे हो। लोग छोटे बच्चे लिए बैठे हैं। बुजुर्गों को पीने का पानी तक नहीं है। बंद करो….कोटा, जब अनाज नहीं देते। तभी राशन दुकानदार ने सर्वर नहीं चलने की परेशानी बताई। इतना सुनते ही 64 वर्षीय बुजुर्ग बत्तीबाई का गुस्सा जैसे सातवें आसमान पर पहुंच गया। उन्होंने सीधे कहा कि अनाज नहीं देना है तो बंद कर दो राशन दुकान।

राशन लेने के लिए दुकान पहुंची यह पीड़ा उस बुजुर्ग की है जिसे माह की 14 तारीख तक राशन नहीं मिला। बत्तीबाई 14 नवंबर को जिले की तिलगवां ग्राम पंचायत स्थित सरकारी राशन दुकान में अनाज लेने गईं थीं। यहां इस पूरे महीने सर्वर के नाम पर मची अंधेरगर्दी के कारण जरुरतमंद परिवारों को राशन नहीं मिल पा रहा है। 414 से ज्यादा राशनकार्ड धारियों में 55 परिवारों को ही राशन मिल सका है। 14 नवंबर को सुबह सर्वर चला और 13 लोग ही राशन ले पाए। कमोबेश यही स्थिति 15 नवंबर को रही, सुबह एक घंटे ही सर्वर चला और पूरे दिन में सिर्फ दो परिवार ही अनाज पा सके।

दरअसल राशन दुकानों में अनाज के लिए उपभोक्ताओं की परेशानी सरकार के उस फरमान ने बढ़ा दी है, जिसमें सरकारी राशन दुकान से अनाज वितरण की व्यवस्था ऑनलाइन की गई है। सरकार के इस नए फरमान से गरीबों के राशन के नाम पर हो रही कालाबाजारी में पूरी तरह से रोक लग गई तो सवाल उठा कि सरकार के इस नवाचार में क्या राशन दुकानदार सहयोग करेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.